Cabinet minister Siddarthnath Singh’s sarcasm, when you are not leaving your own relative, what will you leave to the poor, Atiq and Company should answer | प्रयागराज में कहा- अतीक जब खुद के रिश्तेदार को नहीं छोड़ रहे तो गरीबों को क्या छोड़ोगे

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Prayagraj
  • Cabinet Minister Siddarthnath Singh’s Sarcasm, When You Are Not Leaving Your Own Relative, What Will You Leave To The Poor, Atiq And Company Should Answer

प्रयागराज6 घंटे पहले

कैबिनेट मंत्री सिद्दार्थनाथ सिंह ने कहा कि जब अतीक अहमद का बेटा अपने रिश्तेदार पर पिस्टल तान कर जमीन कब्जा कर रहा है, तो वह गरीबों को क्या घर देगा?

करेली के एनुउद्दीनपुर में मो. जीशान की जमीन पर अतीक अहमद के बेटे अली और उनके गुर्गे की ओर से जमीन कब्जे का मामला सामने आने के बाद राजनीति भी गरमा गई है। कुछ दिनों पहले अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा था कि हम अपनी पुश्तैनी जमीन गरीबों के घर बनाने के लिए देंगे। उस पर कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने शनिवार को कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि जब अतीक अहमद का बेटा अपने रिश्तेदार पर पिस्टल तान कर जमीन कब्जा कर रहा है। तो वह गरीबों को क्या घर देगा, समझा जा सकता है।

तीन-चार दिन में ही खुल गई पोल

अतीक अहमद एंड कंपनी के अवैध कब्जे किए ए जो जमीने थीं, उस पर जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलडोजर चलवाया और ऐतिहासिक कार्य किया। जिस पर उन्होंने 75 आवास बनाए हैं और भूमि पूजा की। उसके बाद जो उनके परिवार के लोग हैं। उन्होंने मीडिया के साथ बातचीत की। कहा कि हम गरीबों का काम करते हैं और गरीबों को घर देते हैं, शरण देते हैं। हम लोग कब्जा नहीं करते। उनकी पोल तीन-चार दिन बाद ही खुल गई। शुक्रवार को उन्हीं के लोग हैं। एक-दूसरे के परिवार के हैं। रंगदारी के केस में उनके बेटे व गुर्गो पर एफआईआर दर्ज हुई है और उसका वीडियो भी सामने आया है। अब मैं पूछना चाहता हूं कि जेल में और उनके परिवार के हैं कौन से गरीब के लिए आप जमीन ले रहे थे। या आप कब्जा नहीं करते और किस बात पर इन लोगों को पिस्टल निकाल कर धमकाया जाता है। जब आप अपने परिवार के साथ कर सकते हो तो जनता के साथ क्या करोगे। इसका जवाब अतीक एंड कंपनी को देना चाहिए।

अपने बढ़ा रहे अतीक की मुश्किलें

उल्लेखनीय है कि पिछले पांच से छह सालों में अतीक अहमद के करीबी ही दुश्मन बने हैं। जिस जीशान के साथ घटना हुई। वह अतीक अहमद के साढ़ू इमरान जई का सगा भाई है। अली पर मुकदमा दर्ज होने के बाद गुजरात जेल में बंद अतीक की मुश्किलें बढ़ गई है। ऊपर से चुनाव का माहौल होने पर उनके विरोधी भी सक्रिय हो गए हैं।

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*