In the 21 bigha land case of Majha Barehta, AAO ordered, the land was donated without stamp duty | माझा बरेहटा के प्रकरण में आदेश, बगैर स्टांप ड्यूटी दान ली जमीन

अयोध्या10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अयोध्या के मांझा बरेहटा में दलित परिवार से मिलकर उन्हें न्याय का भरोसा दिलाते आप सांसद संजय सिंह (फाईल फोटो)।

अयोध्या के मांझा बरेहटा में दलित रोंघई की 21 बीघा भूमि को महर्षि रामायण विद्यापीठ ट्रस्ट को दान लेने के मामले में असिस्टेंट रिकॉर्ड अधिकारी (एआरओ) अयोध्या भान सिंह ने अवैध करार दिया हैl दलित की जमीन ट्रस्ट से 1993 में बिना डीएम की अनुमित के ही दान में ले ली थीl इस मामले में दान की भूमि पर नियम के अनुसार स्टांप डयूटी भी अदा नहीं की गई थीl

संजय सिंह ने मांझा बरेहटा के दलितों से भेंट कर उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया था

तत्कालीन डीएम अनुज कुमार झा ने 1993 में दान में ली गई इस भूमि को जांच के बाद सरकार के नाम दर्ज करने के लिए कहा थाl दलित रोंघई एमआरवीटी का कर्मचारी था जिससे ट्रस्ट ने यह भूमि दान में ले ली थीl l सूत्रों के अनुसार इस चर्चित मामले में एआरओ भान सिंह ने गत माह चुपचाप आदेश बहुत दबाव बढ़ने पर ही कियाl

28 दिसंबर को आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी और सांसद संजय सिंह ने मांझा बरेहटा के गरीब दलितों से भेंट कर उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया थाl संजय सिंह ने यह आरोप भी लगाया था कि स्कूल और अस्पताल के नाम पर जमीन लेने के बाद महर्षि ट्रस्ट के लोग इस जमीन को बेचकर अरबों की लूट कर रहे हैंl

एक-दो बीघे की जमीन रखने वाले उस क्षेत्र के दलितों से रोंघई ने 21 बीघा जमीन खरीदी

संजय स‍िंंह ने कहा था क‍ि राम जन्मभूमि क्षेत्र के पांच किलोमीटर के दायरे में किस तरह से तमाम अधिकारियों, भारतीय जनता पार्टी के विधायकों,उनके रिश्तेदारों ने जमीनें खरीदी हैं उसका पूरा खाका मेरे पास है। उत्तर प्रदेश में नियम है की 3.5 बीघे से अधिक जिस दलित की जमीन होगी वही बेच सकता है,अन्यथा नहीं बेच सकता। इसमें पहले एक रोंघई नाम के व्यक्ति को तैयार किया गया, क्योंकि दलित ही दलित की जमीन को खरीद सकता है, यह ट्रस्ट के लोग जानते थे।

एक-दो बीघे की जमीन रखने वाले उस क्षेत्र के दलितों से रोंघई ने 21 बीघा जमीन खरीदी। फ‍िर वह 21 बीघा जमीन महर्षि रामायण विद्यापीठ ट्रस्ट को दान कर देता है। जब वह जमीन दान में चली गई और इस बात का पता उसमें शाम‍िल एक एक जमीन बेचने वाले दलित महादेव को पता चली, तो उसने शिकायत की। उसने कहा कि हमारी जमीनों को गलत ढंग से खरीद कर, बेचा जा रहा है, जो क‍ि ट्रस्ट नहीं कर सकता।

इसमें कोई मामूली लोग शामिल नहीं है
संजय स‍िंंह ने कहा क‍ि जब इस बात का खुलासा हुआ तो अधिकारियों ने जांच बैठा दी। हद तो यह रही जो अधिकारी इस मामले की जांच बैठाते हैं वही अधिकारी ट्रस्ट से फ‍िर जमीने खरीदते हैं। यह सीधा-सीधा भाजपा नेताओं और अफसरों द्वारा म‍िलीभगत करके क‍िया गया भ्रष्टाचार है। यह मामला बताता है क‍ि रामजन्‍मभूम‍ि क्षेत्र में योगी राज में जमीन की जालसाजी चल रही है। इसमें कोई मामूली लोग शामिल नहीं है।

समाजवादी पार्टी भी उठा चुकी है सवाल

जमीन खरीदारी में अधिकारियों के नाम आने के बाद समाजवादी पार्टी नेता तथा उत्तर प्रदेश सरकार में पूर्व राज्य मंत्री पवन पाण्डेय ने भाजपा सरकार पर हमला बोला है। पूर्व मंत्री ने कहा योगी सरकार में राम के नाम पर अधिकारी और नेता लूट रहे है।

अयोध्या में पूर्व DM के पिता ने भी खरीदी जमीन:मंदिर से 1 किमी. दूर 23 लाख में ली जमीन, प्रियंका बोलीं- नेता-अफसर सब लूट में शामिल

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*