KGMU Professor Dr Narsingh Verma Exclusive – What to include in the diet plan, how will the deficiency of Vitamin D be met? Know the words of Dr. Narsingh, the physiology expert of KGMU | क्या कुछ शामिल करें डाइट प्लान में, विटामिन D की डेफिशिएंसी कैसे होगी पूरी? जानिए KGMU के फिजियोलॉजी एक्सपर्ट डॉ. नरसिंह की जुबानी

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • KGMU Professor Dr Narsingh Verma Exclusive What To Include In The Diet Plan, How Will The Deficiency Of Vitamin D Be Met? Know The Words Of Dr. Narsingh, The Physiology Expert Of KGMU

लखनऊ10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

KGMU के फिजियोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर डॉ नरसिंह वर्मा से कोरोना की तीसरी लहर का कैसे करे मुकाबला पर खास बातचीत

उत्तर प्रदेश में कोरोना के तेजी से बढ रहे मामलों के बीच तीसरी लहर की संभावना साफ देखी जा रही है। लोगों के मन में इन दौरान इम्यून सिस्टम को मजबूत करने से लेकर डाइट प्लान तक को लेकर तमाम सारे सवालों है। दैनिक भास्कर उन सवालों को लेकर KGMU के फिजियोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर डॉ.नरसिंह वर्मा तक पहुंचा, और उनसे जानने डाइट से लेकर विटामिन D के डेफिशिएंसी तक से जुड़े अहम सवाल पर बातचीत की। पेश है उसी के अंश –

डॉ नरसिंह वर्मा - प्रोफेसर - फिजियोलॉजी विभाग - KGMU, लखनऊ

डॉ नरसिंह वर्मा – प्रोफेसर – फिजियोलॉजी विभाग – KGMU, लखनऊ

सवाल – तीसरी लहर के आने की संभावना के बीच, कैसे रहे डाइट प्लान व थाली में क्या कुछ शामिल करें जिससे मजबूती से इसका मुकाबला किया जा सके?

डॉ. नरसिंह वर्मा - प्रोफेसर

डॉ. नरसिंह वर्मा – प्रोफेसर

जवाब – वायरस के चाहे जितने अटैक हो हमें कोविड एप्रोप्रियेट बेहवियर का पालन करना बहुत जरुरी है। भोजन संबंधी सवाल के जवाब में मैं यह कहूंगा कि सबसे जरुरी यह है कि हमारा इम्यून सिस्टम बढ़िया काम करे कुछ ऐसी ही डाइट होनी चाहिए। इसके लिए ताजा भोजन जरुरी है, उसमें पर्याप्त मात्रा में सब्जियां, दालें व अंकुरित अनाज सहित फाइबर कंटेंट ज्यादा होना चाहिए। हमारे 85 फीसदी भोजन का भाग, सब्जी, सलाद, दाल, दही, फल व सूप होना चाहिए। साथ ही बासी भोजन से पूरी तरह परहेज जरुरी है और ताजा भोजन ही करना चाहिए।इसके साथ ही घर के बने खाने को ही खाएं, रेस्टोरेंट के बने भोजन से दूर रहे। इन दिनों बाहर के खाने का भी चलन बढ़ा है और तमाम फूड डिलीवरी एप के जरिए भी खाने की डिलीवरी की जाती है पर मेरा यही कहना है कि घर में बने खाने को ही आहार में शामिल करें। बाहरी भोजन से दूरी बनाने ही सही रहेगा।

सवाल – सर्दी के दिनों में धूप भी कम निकलती, और कई बार सूर्य देवता के दर्शन भी नही होते, ऐसे में विटामिन D की कमी को कैसे दूर करें?

डिपार्टमेंट ऑफ फिजियोलॉजी, किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ

डिपार्टमेंट ऑफ फिजियोलॉजी, किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ

जवाब – विटामिन D की कमी के लिए यही कहना है कि वातावरण से दूरी न बनाएं। थोड़े समय के लिए ही सही पर बाहर जरुर निकले। ठंडक के मौसम में भी सूर्य की किरणें रहती है, बादल होने के कारण वह नजर भले न आती हो पर इतनी जरुर रहती है कि शरीर में विटामिन D बने। इसके लिए बहुत तेज धूप की आवश्यकता नही, हां, यह और बात है कि हम भारतीयों की स्किन की विशेषता है कि यह डार्क स्किन है, इसीलिए थोड़ा ज्यादा देर तक हमें सूर्य के प्रकाश की जरुरत होती है। प्रयास यही होना चाहिए कि दोपहर के समय थोड़ी देर के लिए ही सही कमरे के अंदर से बाहर निकले। करीब एक से डेढ़ घंटे तक धूप में रहे, वातावरण में रहे। चाहे तो छत पर चले जाएं पर इस दौरान थोड़ा टहल ले। यदि इन सबके बावजूद विटामिन D की कमी पूरी नही हो पा रही है तब दवा के जरिए इसकी कमी को दूर किया जा सकता है। 60k की गोलियां व सिरप दोनों ही आसानी से मेडिकल स्टोर में उपलब्ध है, इसका दूध के साथ सेवन करने से विटामिन D की कमी को पूरा किया जा सकता है, पर इसकी जरुरत बेहद कम लोगों को होगी। ज्यादातर सूर्य की किरणों से इसकी कमी को दूर कर लेंगे।

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*