Lucknow – Shakuntala Mishra RehabilitationUniversity -The female staff of Shakuntala Mishra University in Lucknow alleges molestation, FIR registered against Registrar plus 3 staff at Para police station | लखनऊ के शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय की महिला स्टॉफ ने लगाया छेड़छाड़ का आरोप, पारा थाने में दर्ज हुई FIR

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Lucknow Shakuntala Mishra RehabilitationUniversity The Female Staff Of Shakuntala Mishra University In Lucknow Alleges Molestation, FIR Registered Against Registrar Plus 3 Staff At Para Police Station

लखनऊएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार समेत 4 अफसरों के खिलाफ दर्ज हुए FIR – प्रतीकात्मक चित्र

राजधानी लखनऊ के डॉ. शकुंतला मिश्रा पुनर्वास विश्वविद्यालय से जुड़ा सनसनीखेज मामला बुधवार को सामने आया। विश्वविद्यालय के कुलसचिव अमित कुमार पर यूनिवर्सिटी में ही तैनात एक महिला अफसर ने यौन शोषण का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है। पीड़िता ने लखनऊ के पारा थाने में कुलसचिव समेत यूनिवर्सिटी के तीनों अधिकारी अमित राय, प्रोफेसर हिमांशु शेखर और डॉ. अरविंद कुमार सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है।

विश्वविद्यालय प्रशासन से शिकायत पर नही हुई सुनवाई

पीड़िता का आरोप है कि पिछले 3 साल से कुलसचिव उन्हें परेशान कर रहे है। विश्वविद्यालय में 2018 में नियुक्त हुई महिला का आरोप है कि कुलसचिव अमित कुमार यूनिवर्सिटी के तीन अन्य अधिकारियों के साथ उन पर पिछले 3 सालों से शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बना रहे। साथ ही पीड़िता के मुताबिक इसके बाद भी कई मौकों पर अमित उनका किसी न किसी बहाने शारीरिक स्पर्श करते रहे। यहां तक की सीधे तौर पर शारीरिक संबंध बनाने को भी कहा। पीड़िता के मना करने पर आरोपी अमित ने यूनिवर्सिटी के अन्य स्टॉफ से उसे धमकाने और उसका भविष्य खराब करने की धमकी दिलवाई। पीड़िता के मुताबिक 2018 से लेकर 2021 तक उन्हें हर तरह से परेशान किया गया। इस बीच पीड़िता ने विश्वविद्यालय प्रशासन से शिकायत भी की पर कोई सुनवाई नही हुई।

इनके खिलाफ हुई है FIR –

बुधवार को FIR दर्ज हुई। पीड़िता ने पारा थाने में कुलसचिव, उप कुलसचिव, प्रोफेसर और ऑफिस स्टाफ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई। पुलिस ने इन चारों के खिलाफ आईपीएस की धारा 354, 120 b समेत गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने मामले की जांच के बाद कार्रवाई की बात कही है।

क्या बोले कुलपति

यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.आरकेपी सिंह ने बताया कि FIR के बाबत जानकारी मुझे नही है। मैं बुधवार शाम को ही गुवाहाटी से लखनऊ लौटा हूं। ICC यानी इंटरनल कंप्लेंट कमेटी के सामने भी यह प्रकरण लाया गया था। कमेटी ने आरोपियों को बिना किसी ठोस साक्ष्य के आभाव में बरी कर दिया है। पीड़िता ने बाद में वीसी ऑफिस में अपील की है। अगले 15 – 20 दिनो तक इस पर भी निर्णय आ जायेगा।

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*