No Brahmin leader in BSP: Former SP MLA in Jaunpur said- Right to speak in sister’s party has been taken away | ​​​​​​​जौनपुर में सपा के पूर्व विधायक ने कहा- बहन जी की पार्टी में बोलने का अधिकार छीन लिया गया है

जौनपुर5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कार्यक्रम के आयोजक बदलापुर के पूर्व सपा विधायक बाबा दुबे ने अपने भाषण के बाद मीडिया से बातचीत की।

जौनपुर के बदलापुर विधानसभा में सपा के पूर्व विधायक बाबा दुबे ने रविवार की देर शाम ब्रह्मादेश समागम का आयोजन किया। इस दौरान हजारों की संख्या में ब्राह्मण उपस्थिति रहे। सपा नेता ने बसपा पर निशाना साधते हुए कहा कि बसपा में किसी ब्राह्मण नेता की जुबान नहीं है। बहन जी की पार्टी में बोलने का अधिकार छीन लिया गया है। ब्राह्मणों के पास एक ही पूंजी होती है बोलने की लेकिन उस पर भी मनाही है। बाकी की कसर एससी- एसटी ने पूरी कर दी है।

सरकार के खिलाफ रोष दिखा

रविवार को बदलापुर विधानसभा में ब्रह्मदेश समागम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के बारे में अखिलेश यादव ने भी अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट किया था। ठंड के चलते कार्यक्रम दोपहर में शुरू हुआ। इस दौरान बड़ी संख्या में ब्राह्मण नेता उपस्थित दिखे। मंच पर एक-एक करके ब्राह्मण नेताओं के बोलने का सिलसिला शुरू हुआ। सभी नेताओं के भाषण में वर्तमान सरकार के खिलाफ रोष दिखा। कार्यक्रम के आयोजक बदलापुर के पूर्व सपा विधायक बाबा दुबे ने अपने भाषण के बाद मीडिया से बातचीत की।

बदलापुर विधानसभा में सपा के पूर्व विधायक बाबा दुबे ने रविवार की देर शाम ब्रह्मादेश समागम का आयोजन किया।

बदलापुर विधानसभा में सपा के पूर्व विधायक बाबा दुबे ने रविवार की देर शाम ब्रह्मादेश समागम का आयोजन किया।

बसपा पर जमकर निशाना साधा

मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य था कि सभी ब्राह्मणों को एकजुट किया जाए। उन्होंने कहा कि सपा के मुखिया अखिलेश यादव ब्राह्मणों के बारे में खुलकर बातचीत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ में भी परशुराम की मूर्ति का दर्शन अखिलेश यादव ने किया। इस दौरान उन्होंने बसपा पर जमकर निशाना साधा। बसपा में किसी भी ब्राह्मण नेता को बोलने का अधिकार नहीं है। वहां कैसे कोई नेतागिरी करेगा।

चुनावी आगाज नहीं, अंत है

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव की सरकार में जनेश्वर मिश्र के नाम पर पार्क बनाकर उन्हें भी अजर अमर कर दिया गया। संस्कृत महाविद्यालय और विद्यालय भी बड़ी संख्या में बनाए गए। ऐसे में ब्राह्मणों सिर्फ और सिर्फ सपा की तरफ रुख करने जा रहे हैं। जब उनसे यह पूछा गया कि यह समागम कहीं 22 की तैयारी के लिए तो नहीं है तो उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों ने फैसला कर लिया है। यह चुनावी आगाज नहीं बल्कि चुनावी अंत है।

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*