People chilled by cold winds, increased melting, it was difficult to get out of homes | बारिश ने तोड़ा 23 साल का रिकार्ड, 24 घंटे में हुई रिकार्ड 24.5 मिमी बारिश; सर्द हवाओं से ठिठुरे लोग

गोरखपुर7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बुधवार को आसमान में काले घने बादल छाए रहे। दिनभर सूरज बादलों की ओट में छिपा रहा। रुक-रुक के हल्की बूंदाबांदी होती रही।

देर से ही सही लेकिन आखिरकार गोरखपुर में शीतलहर ने दस्तक दे दी। मंगलवार की रात हुई बरसात से पारा अचानक से ​नीचे आ गया। जिससे जिले में मौसम का मिजाज बदल गया है। बुधवार की सुबह भी बूंदाबांदी हुई। वहीं पूरे दिन बादल छाए रहे और हल्की बूंदाबांदी भी हुई। वहीं तेज सर्द हवाओं ने लोगों को कंपा दिया। लोग घर से कम ही निकले। आने वाले कुछ दिनों तक दिन और रात के तापमान में लगातार गिरावट की संभावना विशेषज्ञ जता रहे हैं।

वहीं, दिसंबर महीने के अंतिम सप्ताह में मौसम ने ऐसी करवट ली कि झमाझम बारिश ने पिछले 23 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। 23 साल बाद दिसंबर में रिकॉर्डतोड़ बारिश हुई है। बारिश के साथ ही पारा भी गोते लगा गया है। दिन का पारा सामान्य से 9.4 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया। विशेषज्ञों के अनुसार बुधवार को कोल्ड डे रहा।

अफगानिस्तान व जम्मू कश्मीर में स​क्रिय विक्षोभ
विशेषज्ञों के अनुसार अफगानिस्तान व जम्मू-कश्मीर में सक्रिय रहा पश्चिमी विक्षोभ शिफ्ट होकर पूर्वी यूपी तक पहुंच गया। उधर बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ होते हुए पूर्वी यूपी से गुजर रहा है। दोनों के मिलन के कारण जिले में सोमवार की शाम से ही मौसम का मिजाज बदलने लगा। मंगलवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहे। दिन का तापमान सामान्य से कम था।

झूम के बरसे बादल
जिले में मंगलवार की शाम से ही बूंदाबांदी शुरू हो गई। बुधवार के तड़के झमाझम बारिश हुई। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को 24.5 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। यह बीते 23 साल में दिसंबर में सर्वाधिक बारिश है। इससे पहले 10 दिसंबर 1997 को 42.3 मिलीमीटर बारिश हुई थी।

दिन में लुढ़का, रात में चढ़ा पारा
बुधवार को आसमान में काले घने बादल छाए रहे। दिनभर सूरज बादलों की ओट में छिपा रहा। रुक-रुक के हल्की बूंदाबांदी होती रही। दिन में 35 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर पूर्व दिशा से हवा चली। हवा में अधिकतम नमी 98 फीसदी और न्यूनतम नमी 84 फीसदी रही। गलन बढ़ गई। इसके कारण दिन में अधिकतम तापमान 15.6 डिग्री सेल्सियस रहा। मंगलवार को दिन में अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस था।

दिसंबर में औसतन दिन का तापमान 25 डिग्री सेल्सियस रहता है। बुधवार को दिन का तापमान सामान्य से 9.4 डिग्री सेल्सियस कम था। मौसम विशेषज्ञ कैलाश पांडेय ने बताया कि दिन में तापमान 16 डिग्री सेल्सियस से कम होने की वजह से इसे कोल्ड-डे माना जाएगा। वहीं, रात का तापमान 13.3 डिग्री सेल्सियस रहा। यह मंगलवार के मुकाबले 2.3 डिग्री सेल्सियस अधिक है।

आज भी छाए रहेंगे बादल, हो सकती है बूंदाबांदी
केसी पांडेय ने बताया कि गुरुवार की सुबह कोहरा पड़ सकता है। आसमान में बादल छाए रहेंगे। हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। सुबह में उत्तर पूर्व दिशा से ठंडी हवाएं चलेंगी। वहीं दोपहर बाद पछुआ हवाएं चलेंगी। इसके बाद रात का पारा लुढ़केगा।

फसलों के लिए अच्छी है बारिश
वैज्ञानिकों के अनुसार यह बारिश सभी प्रकार के फसलों के लिए लाभदायक है। हालांकि मटर के फसल पर इसका नुकासान होगा। आंकड़े के अनुसार 2005,2006,2010, 2011,2012,2013,2015,2016,2017,2018 व 2020 के दिसंबर में बारिश नहीं हुई। वहीं 2007 के दिसंबर में 1.5, 2008 में 0.5, 2009 में 4.0, 2014 में 3.7, 2019 में 14.00 मिमी बारिश हुई थी।

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*