TISKA pageant will work for the out-of-school children, the flags of beauty of their body and mind, buried in Delhi | TISKA पेजियंट दिल्ली में गाड़े अपने तन-मन की सुंदरता के झंडे, DPS की शिक्षिका आउट आफ स्कूल बच्चों के लिए करेंगी काम

मुजफ्फरनगर35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

DPS की शिक्षिका शैली कादियान Mrs इंडिया वन इन ए मिलियन रनर अप चुने जाने के बाद

नगर के DPS की शिक्षिका व मुजफ्फरनगर निवासी शैली कादियान को नई दिल्ली के विवांता में आयोजित TISKA पेजियंट में Mrs इंडिया ONE IN A MILLION FIRST RUNNER UP अप के खिताब से नवाजा गया। शादी-शुदा महिलाओं के बीच आयोजित इस प्रतियोगिता में शैली ने यह उपलब्धि देश की 800 कंटेस्टेंट को पछाड़कर हासिल की। उनको सुपर माडल अदिती गोवित्रीकर ने ताज पहनाया। शैली शिक्षण के साथ आउट आफ स्कूल बच्चों के लिए कुछ करना चाहती हैं।

DPS की शिक्षिका शैली कादियान Mrs इंडिया वन इन ए मिलियन रनर अप चुने जाने से पहले प्रतियोगिता के दौरान।

DPS की शिक्षिका शैली कादियान Mrs इंडिया वन इन ए मिलियन रनर अप चुने जाने से पहले प्रतियोगिता के दौरान।

मूल रूप से हाथी करोदा गांव निवासी शैली कादियान ने अपनी उपलब्धि से जिले की कामकाजी महिलाओं को प्रेरित किया है। शैली की शुरुआती पढ़ाई मुंबई में हुई। जिसके बाद नेवी में कार्यरत व जिले के भोरा गांव निवासी उनके पिता सुरेन्द्र सिंह परिवार सहित नाईजीरिया के लेगोस शिफ्ट हो गए थे। शैली बताती है कि लेगोस के सीबीएसई स्कूल से 12th करने के बाद उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ से बीकाम तथा एमकाम किया। उन्होंने एमिटि यूनिवर्सिटी नोएडा से एमबीए किया। इसके बाद उन्होंने लेगोस स्थित ब्रिटिश एंबेसी में बतौर VISA आफिसर काम संभाला। शैली ने कई मल्टी नेशनल कंपनियों में अपनी सेवाएं दी। जिसके बाद 2005 में उनकी शादी मूल रूप से शामली जनपद के गांव नाई नगला निवासी विंग कमांडर रोहित से हुई।

शैली कादियान सुपर माडल अदिति गोवित्रीकर व पति के साथ।

शैली कादियान सुपर माडल अदिति गोवित्रीकर व पति के साथ।

12 साल की इनफर्टिलिटी प्राब्लम से उबरी

शैली कादियान सिर्फ तन की ही सुंदर नहीं हैं, बल्कि एक स्ट्रांग विल वाली महिला है। बताती है कि शादी के बाद 12 साल तक उन्होंने इनफर्टिलिटी प्राब्लम झेली। लेकिन बिना मायूस हुए वह अपने काम में लगी रहीं और ईश्वर ने उन्हें बेटा-बेटी के रूप में जुड़वा बच्चों से नवाजा। वह अन्य महिलाओं को भी संदेश देती हैं कि समस्या कोई भी आए लेकिन उनका मुकाबला होप यानी उम्मीद के साथ करना चाहिए।

बच्चों के साथ घर संभाला, किया प्रतिभाग

शैली कादियान वर्तमान में अपने माता-पिता के साथ नगर के लक्षमण विहार में रह रही हैं। मार्च 2021 में उन्होंने नगर के DPS में बतौर PGT शिक्षक काम संभाला। शिक्षण के साथ वह घर संभालती हैं और दो जुड़वा बच्चों का बेहतर तरीके से लालन-पालन कर रही हैं। बावजूद हर समय कुछ नया करने की चाह उनके मन में रहती है। सब व्यस्तताओं के बीच उन्होंने Mrs इंडिया वन इन ए मिलियन प्रतियोगिता में भाग लिया।

कई राउंड क्वालीफाई कर अंतिम आठ में

शैली कादियान बताती हैं कि उन्होंने फेसबुक से Mrs इंडिया वन इन ए मिलियन प्रतियोगिता का एड देखा था। जोकि पूरी तरह से भारतीय शादी-शुदा महिलाओं के लिए था। बताया कि रजिस्ट्रेशन के बाद प्रतियोगिता का आडिशन हुआ जिसमें वह हजारों महिलाओं को पछाड़कर बेस्ट 800 में शामिल हुई। 21 दिसंबर से शुरुआती GK, PSYCHOLOGY Test तथा कई प्रकार की दूसरे राउंड क्वालीफाई करते हुए शैली आगे बढ़ी। बताती हैं कि करीब ऐसे 10 राउंड में मिले अंको के आधार पर वह 500 प्लस में पहुंची। जिसके बाद इंट्रोडक्शन फिटनेस राउंड, कैट वाक आदि के बाद उन्होंने अंतिम आठ में जगह बनाई।

पापूलेशन पर चिंता व्यक्त कर पहुंची खिताब तक

अंतिम आठ में जगह बनाने के बाद असली संघर्ष 24 दिसंबर को Mrs इंडिया ONE IN A MILLION का ताज सिर पर सजाने के लिए हुआ। शैली कादियान ने बताया कि फाईनल राउंड में कई प्रकार की परीक्षाओं से गुजरना पड़ा। लेकिन अंतिम चयन के लिए सभी कंटेस्टेंट से केवल एक सवाल पूछा गया। जिसका जवाब लिखकर और बोलकर देना था। शैली ने बताया कि उनके जवाब पर उन्हें Mrs इंडिया ONE IN A MILLION का रनर अप घोषित किया गया। देश की सबसे बड़ी समस्या को लेकर किये गए सवाल पर उन्होंने बढ़ती जनस्ख्यां पर चिंता जताते हुए जवाब दिया था। शैली TISKA पेजियंट फाउंडर प्रशांत चौधरी व स्वाति दीक्षित तथा मेंटर हरप्रीत, रुची, खुशी एवं मोनिका व पायल को सहयोग के लिए धन्यवाद देती हैं।

खबरें और भी हैं…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*