“Deoria 24 News” Actor-director Seema Pahwa feels cheated by those who worked on Pagglait but didn’t tell her of similarities with Ramprasad Ki Tehrvi | सीमा पाहवा की ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’ और ‘पगलैट’ में कई समानताएं, डायरेक्टर बोलीं-मेरे साथ हुआ है धोखा

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Actor director Seema Pahwa Feels Cheated By Those Who Worked On Pagglait But Didn’t Tell Her Of Similarities With Ramprasad Ki Tehrvi

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

एक्टर-डायरेक्टर सीमा पाहवा का कहना है कि उनकी फिल्म ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’ पर काम करने वाले कुछ लोग हाल ही में रिलीज हुई ‘पगलैट’ में भी क्रू मेंबर थे। सीमान ने बताया कि उनके साथ धोखा हुआ है कि कैसे उन्हें अभी भी दो फिल्मों के बीच समानता की जानकारी नहीं दी गई थी। इस बात की जानकारी सीमा ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में दी है।

1 जनवरी को रिलीज हुई थी ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’
सीमा पाहवा की ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’ 1 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी। वहीं सान्या मल्होत्रा की ‘पगलैट’ मार्च में नेटफ्लिक्स पर आई थी। दोनों ही फिल्मों का सिमिलर प्लॉट है। इन दोनों ही फिल्मों में UP की एक मिडिल क्लास फैमिली की कहानी दिखाई गई है, जो घर के एक सदस्य के अंतिम संस्कार के लिए घर पर इकट्ठा होते हैं।

दोनों फिल्मों में समानताएं मेरे लिए ‘दर्दनाक’
सीमा पाहवा ने कहा कि दोनों फिल्मों के बीच समानताएं उनके लिए ‘दर्दनाक’ हैं। उन्होंने कहा, “हमने 2018 में ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’ को बना लियआ था और फिल्म को पहले MAMI और अन्य फिल्म समारोहों में रिलीज भी किया था। ‘पगलैट’ इसके बाद आई है और इसमें मेरी फिल्म से कुछ समानताएं हैं, जिसे देखकर मुझे बहुत तकलीफ हुई है। जिस लोकेशन पर हमने शूट किया था, वो भी काफी हद तक वही हैं। किरदारों में भी काफी समानताएं हैं। मैंने सोचा था कि ऐसा इसलिए था क्योंकि दोनों ही फिल्मों में मिडिल क्लास फैमिली की कहानी दिखाई गई है, जिसमें आपको एक ही तरह के किरदार चाहिए होते हैं। हो सकता है कि यह सिर्फ एक संयोग है। लेकिन लोकेशन का भी एक ही होना एक समस्या है, क्योंकि दर्शक दोनों फिल्मों को लेकर उलझन में हैं।

मेरी फिल्म में काम करने वाले ‘पगलैट’ के भी क्रू मेंबर थे
सीमा पाहवा ने आगे कहा, “हमारे बीच कुछ बातचीत होनी चाहिए थी। ताकि हम दोनों फिल्मों को अलग-अलग बनाने के लिए कुछ चीजों को बदल सकते थे। मेरी भी गलती थी, क्योंकि मुझे बहुत देर से पता चला कि हमारी जैसी फिल्म बनाई जा रही थी। मेरे साथ धोखा हुआ है, मुझे ऐसा इसलिए महसूस हो रहा है, क्योंकि ‘रामप्रसाद की तेरहवीं’ पर काम करने वाले कुछ लोग ‘पगलैट’ के भी क्रू मेंबर थे और वे फिल्म के बारे में जानते थे। यह थोड़ा आश्चर्य की बात है कि उन्होंने इसे दूसरे मौके के रूप में नहीं देखा और कुछ बदलाव नहीं किए। मैंने अब तक उनसे बात नहीं की है, लेकिन यह चौंकाने वाला था।”

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *