Dewrani Jethani Lost Sons – बेटों की मौत से उजड़ी देवरानी-जेठानी की दुनिया


कुशीनगर हादसे में मरे लोगों के रोते बिलखते परिजन
– फोटो : DEORIA

ख़बर सुनें

बेटों की मौत से उजड़ी देवरानी-जेठानी की दुनिया
पति को पहले ही खो चुकी हैं इंदु और सुभावती
संवाद न्यूज एजेंसी
रुद्रपुर। सगाई के बाद जिस घर में शहनाई बजने वाली थी वहां नियति ने दो जवान भाइयों की अर्थी उठाने को मजबूर कर दिया। पिता की मौत के बाद दोनों चचेरे भाइयों की मौत से रुद्रपुर के स्व. रामकृपाल वर्मा का परिवार पूरी तरह बर्बाद हो गया है। पति के बाद जवान बेटों की असमय मौत से देवरानी जेठानी इंदु और सुभावती की दुनिया उजड़ गई।
पति के नहीं रहने पर तमाम परेशानियां झेलकर दोनों ने अपने लाडलों को पाला था। सोचा था बच्चे बड़े होकर बुढ़ापे में सहारा बनेंगे। बच्चों की शादी के बाद बहू के साथ घर में खुशियां लौट आएंगी। लेकिन काल की क्रूर चाल ने उनकी खुशियों को बर्बाद कर दिया। शिवाला वार्ड की रहने वाली इंदु देवी के पति रामकृपाल वर्मा की कुछ साल पहले मौत हो गई। वहीं, उनकी देवरानी सुभावती देवी के पति इंद्रजीत वर्मा भी अब इस दुनिया में नहीं हैं। पति की मौत के बाद इंदु को अपने तीन बच्चे मनीष, सोनू और अभिषेक की परवरिश खुद करनी पड़ी। इंदु और सुभावती की तंगहाल जिंदगी बच्चों के बड़े होने के साथ पटरी पर लौटने लगी थी। इंदु के बड़े बेटे मनीष की शादी तय होने से परिवार में खुशी का माहौल था। सगाई की रस्मों को निभाकर लौट रहे पूरे परिवार को सड़क हादसे से जो सदमा लगा है, उससे अब उबरना मुश्किल हो गया है। हादसे में दो चचेरे भाइयों सहित पांच की मौत से पूरा नगर हिल गया है। मरने वालों में सुभावती का बेटा प्यारे लाल वर्मा और इंदु का छोटा बेटा अभिषेक है। इंदु के दो बेटे मनीष और सोनू मेडिकल कॉलेज में जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। वर्मा परिवार की दो विधवा माताओं के विलाप से लोगों का दिल दहल जा रहा है। इस परिवार पर बार-बार टूट रहे वज्रपात से लोग आहत हैं।

बेटों की मौत से उजड़ी देवरानी-जेठानी की दुनिया

पति को पहले ही खो चुकी हैं इंदु और सुभावती

संवाद न्यूज एजेंसी

रुद्रपुर। सगाई के बाद जिस घर में शहनाई बजने वाली थी वहां नियति ने दो जवान भाइयों की अर्थी उठाने को मजबूर कर दिया। पिता की मौत के बाद दोनों चचेरे भाइयों की मौत से रुद्रपुर के स्व. रामकृपाल वर्मा का परिवार पूरी तरह बर्बाद हो गया है। पति के बाद जवान बेटों की असमय मौत से देवरानी जेठानी इंदु और सुभावती की दुनिया उजड़ गई।

पति के नहीं रहने पर तमाम परेशानियां झेलकर दोनों ने अपने लाडलों को पाला था। सोचा था बच्चे बड़े होकर बुढ़ापे में सहारा बनेंगे। बच्चों की शादी के बाद बहू के साथ घर में खुशियां लौट आएंगी। लेकिन काल की क्रूर चाल ने उनकी खुशियों को बर्बाद कर दिया। शिवाला वार्ड की रहने वाली इंदु देवी के पति रामकृपाल वर्मा की कुछ साल पहले मौत हो गई। वहीं, उनकी देवरानी सुभावती देवी के पति इंद्रजीत वर्मा भी अब इस दुनिया में नहीं हैं। पति की मौत के बाद इंदु को अपने तीन बच्चे मनीष, सोनू और अभिषेक की परवरिश खुद करनी पड़ी। इंदु और सुभावती की तंगहाल जिंदगी बच्चों के बड़े होने के साथ पटरी पर लौटने लगी थी। इंदु के बड़े बेटे मनीष की शादी तय होने से परिवार में खुशी का माहौल था। सगाई की रस्मों को निभाकर लौट रहे पूरे परिवार को सड़क हादसे से जो सदमा लगा है, उससे अब उबरना मुश्किल हो गया है। हादसे में दो चचेरे भाइयों सहित पांच की मौत से पूरा नगर हिल गया है। मरने वालों में सुभावती का बेटा प्यारे लाल वर्मा और इंदु का छोटा बेटा अभिषेक है। इंदु के दो बेटे मनीष और सोनू मेडिकल कॉलेज में जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। वर्मा परिवार की दो विधवा माताओं के विलाप से लोगों का दिल दहल जा रहा है। इस परिवार पर बार-बार टूट रहे वज्रपात से लोग आहत हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *