Life Imprisonment For Three In Rape And Murder – देवरिया: दुष्कर्म और हत्या में तीन को उम्रकैद, 50-50 हजार रुपये का लगा अर्थदंड


अमर उजाला ब्यूरो, देवरिया।
Published by: गोरखपुर ब्यूरो
Updated Thu, 28 Oct 2021 02:56 PM IST

सार

वर्तमान में बरियापुर और घटना के वक्त सदर कोतवाली क्षेत्र में रहे गांव की निवासी युवती शाम को सात बजे घर पर यह कह निकली थी कि वह शौच के लिए जा रही है। देर रात के बाद भी नहीं लौटी। काफी तलाश के बाद युवती को पता नहीं चल सका। 17 अगस्त की सुबह गांव के बगीचे में उसका शव मिला।

ख़बर सुनें

देवरिया में दुष्कर्म के बाद हत्या करने के मामले में बुधवार को अपर जिला जज व सत्र न्यायाधीश इंद्रा सिंह की अदालत ने तीन लोगों को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इन सभी को पचास-पचास हजार रुपये के अर्थदंड से भी दंडित किया गया है।

अपर शासकीय अधिवक्ता आशुतोष सिंह के अनुसार, कोतवाली थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली युवती 15 अगस्त 2018 को अपने घर के पीछे खेत की तरफ गई थी। इसी दौरान बगल के गांव के तीन लोगों ने दुष्कर्म के बाद हत्या कर शव को छिपा दिया था।

वर्तमान में बरियापुर और घटना के वक्त सदर कोतवाली क्षेत्र में रहे गांव की निवासी युवती शाम को सात बजे घर पर यह कह निकली थी कि वह शौच के लिए जा रही है। देर रात के बाद भी नहीं लौटी। काफी तलाश के बाद युवती को पता नहीं चल सका। 17 अगस्त की सुबह गांव के बगीचे में उसका शव मिला।

मामले में वाहिद, शब्बीर, अजीम और रैफुल्लाह पर सदर कोतवाली में दुष्कर्म कर हत्या का केस दर्ज हुआ। रैफुल्लाह को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है। बुधवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए अपर जिला जज व सत्र न्यायाधीश ने वाहिद, शब्बीर, अजीम को दुष्कर्म व हत्या का दोषी मिलने पर उम्रकैद की सजा सुनाई।

सजा के पहले ही अचेत हुआ शब्बीर
देवरिया। जेल से पेशी पर आया शब्बीर बुधवार को कोर्ट परिसर में अचेत हो गया। हालत खराब देख पुलिसकर्मियों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां के कुछ देर बाद बंदी को होश आ गया। शब्बीर (24) से दुष्कर्म और हत्या के मामले में जिला जेल में बंद है। इसी मामले में उसे न्यायालय में पेशी के लिए पुलिस लाई थी।

विस्तार

देवरिया में दुष्कर्म के बाद हत्या करने के मामले में बुधवार को अपर जिला जज व सत्र न्यायाधीश इंद्रा सिंह की अदालत ने तीन लोगों को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इन सभी को पचास-पचास हजार रुपये के अर्थदंड से भी दंडित किया गया है।

अपर शासकीय अधिवक्ता आशुतोष सिंह के अनुसार, कोतवाली थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली युवती 15 अगस्त 2018 को अपने घर के पीछे खेत की तरफ गई थी। इसी दौरान बगल के गांव के तीन लोगों ने दुष्कर्म के बाद हत्या कर शव को छिपा दिया था।

वर्तमान में बरियापुर और घटना के वक्त सदर कोतवाली क्षेत्र में रहे गांव की निवासी युवती शाम को सात बजे घर पर यह कह निकली थी कि वह शौच के लिए जा रही है। देर रात के बाद भी नहीं लौटी। काफी तलाश के बाद युवती को पता नहीं चल सका। 17 अगस्त की सुबह गांव के बगीचे में उसका शव मिला।

मामले में वाहिद, शब्बीर, अजीम और रैफुल्लाह पर सदर कोतवाली में दुष्कर्म कर हत्या का केस दर्ज हुआ। रैफुल्लाह को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है। बुधवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए अपर जिला जज व सत्र न्यायाधीश ने वाहिद, शब्बीर, अजीम को दुष्कर्म व हत्या का दोषी मिलने पर उम्रकैद की सजा सुनाई।

सजा के पहले ही अचेत हुआ शब्बीर

देवरिया। जेल से पेशी पर आया शब्बीर बुधवार को कोर्ट परिसर में अचेत हो गया। हालत खराब देख पुलिसकर्मियों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां के कुछ देर बाद बंदी को होश आ गया। शब्बीर (24) से दुष्कर्म और हत्या के मामले में जिला जेल में बंद है। इसी मामले में उसे न्यायालय में पेशी के लिए पुलिस लाई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *