Pm Aawas – पीएम आवास योजना के लाभार्थियों को निशाना बना रहे जालसाज


ख़बर सुनें

पीएम आवास योजना के लाभार्थियों को निशाना बना रहे जालसाज
बैंक खाते में किस्त भेजने के नाम पर मांग रहे रकम, लाभार्थियों का विवरण बताकर ले रहे झांसे में
संवाद न्यूज एजेंसी
देवरिया। साइबर ठग अब पीएम आवास योजना के लाभार्थियों को भी अपना शिकार बना रहे हैं। वे सूची वेबसाइट से प्राप्त कर लाभार्थियों को फोन कर रहे हैं। उन्हें आवेदन का विवरण बताकर पहले झांसे में ले रहे हैं फिर किस्त खाते में भेजने के नाम पर रकम मांग रहे हैं।
छह माह के भीतर पीएम आवास योजना शहरी के कई लाभार्थियों के पास जालसाजों ने फोन किया है। फोन करने वाले जालसाज कहते हैं कि मै लखनऊ नगर विकास विभाग से बोल रहा हूं और वह आवेदक का विवरण बताते हैं। जब लोगों को उनपर विश्वास हो जाता है तब उन्हें अपना बैंक अकाउंट नंबर देकर तुरंत रुपये डालने को कहते हैं। इस काम के लिए वह 15 से 20 मिनट या आधे घंटे का समय देते हैं। जिससे लाभार्थी इस बारे में किसी से जानकारी नहीं ले सके। देर करने पर लाभ से वंचित करने की चेतावनी भी देते हैं। कुछ लोग इन जालसाजों की जालसाजी के शिकार भी हो चुके हैं। जिन लोगों ने तुरंत विभाग से संपर्क किया उनकी जेब कटने से बच गई।
केस एक:
जालसाज ने मांगे पांच हजार रुपये
शहर के उमानगर निवासी रामदुलारे यादव बताते हैं कि मेरे मोबाइल पर एक माह पहले 9793…… मोबाइल नंबर से कॉल आया। उसने बताया कि मैं लखनऊ से पीएम आवास योजना का अधिकारी बोल रहा हूं। आपका नाम प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की सूची में है। एक घंटे में लाभार्थियों के खाते में आवास की किस्त जानी है। पांच हजार रुपये मेरे बताए बैंक खाते में डाल दीजिए। आपका नाम सूची में शामिल कर दूंगा।
केस दो:
फोन आते ही पहुंच गई डूडा
शहर के रामनाथ देवरिया निवासी ज्ञानमती देवी पत्नी मुकुट के पास कुछ दिनों पहले एक अंजान मोबाइल नंबर से फोन आया। उसने कहा कि मैं लखनऊ से प्रधानमंत्री आवास योजना का अधिकारी बोल रहा हूं। मेरे बताए बैंक खाते में चार हजार रुपये जमा कर दीजिए थोड़ी देर बाद आपके खाते में आवास की किस्त पहुंच जाएगी। ज्ञानमती फोन आने के तुरंत बाद डूडा आफिस पहुंच गई। पीओ ने किसी के बहकावे में नहीं आने की बात कही।
——–
केस तीन:
कहा, सूची से नाम गायब कर दूंगा
गौरीबाजार नगर पंचायत निवासी गौरीशंकर ने बताया कि मैने पीएम आवास के लिए डूडा में आवेदन दिया है। एक सप्ताह पूर्व मेरे मोबाइल पर अंजान नंबर से फोन आया। उसने कहा कि आप मेरे बताए बैंक खाते में 20 मिनट के भीतर पांच हजार रुपये डाल देंगे तो आवास की पहली किस्त आपके खाते में तुरंत भेज दूंगा। आधा घंटा बीतने पर उसने दोबारा फोन किया और कहा कि देर किए तो तुम्हारा नाम सूची से गायब कर दूंगा, फिर तुम्हें कभी आवास का लाभ नहीं मिलेगा। बगल के व्यक्ति ने मुझे सतर्क रहने की सलाह दी।
प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी पूरी तरह नि:शुल्क है। इसमें लाभार्थी से कहीं भी किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाना है। कई लाभार्थियों ने जालसाजों के फोन कॉल की जानकारी दी है। सभी को जालसाजों से सावधान रहने को कहा जा रहा है।
– विनोद कुमार मिश्र, परियोजना अधिकारी, डूडा।

पीएम आवास योजना के लाभार्थियों को निशाना बना रहे जालसाज

बैंक खाते में किस्त भेजने के नाम पर मांग रहे रकम, लाभार्थियों का विवरण बताकर ले रहे झांसे में

संवाद न्यूज एजेंसी

देवरिया। साइबर ठग अब पीएम आवास योजना के लाभार्थियों को भी अपना शिकार बना रहे हैं। वे सूची वेबसाइट से प्राप्त कर लाभार्थियों को फोन कर रहे हैं। उन्हें आवेदन का विवरण बताकर पहले झांसे में ले रहे हैं फिर किस्त खाते में भेजने के नाम पर रकम मांग रहे हैं।

छह माह के भीतर पीएम आवास योजना शहरी के कई लाभार्थियों के पास जालसाजों ने फोन किया है। फोन करने वाले जालसाज कहते हैं कि मै लखनऊ नगर विकास विभाग से बोल रहा हूं और वह आवेदक का विवरण बताते हैं। जब लोगों को उनपर विश्वास हो जाता है तब उन्हें अपना बैंक अकाउंट नंबर देकर तुरंत रुपये डालने को कहते हैं। इस काम के लिए वह 15 से 20 मिनट या आधे घंटे का समय देते हैं। जिससे लाभार्थी इस बारे में किसी से जानकारी नहीं ले सके। देर करने पर लाभ से वंचित करने की चेतावनी भी देते हैं। कुछ लोग इन जालसाजों की जालसाजी के शिकार भी हो चुके हैं। जिन लोगों ने तुरंत विभाग से संपर्क किया उनकी जेब कटने से बच गई।

केस एक:

जालसाज ने मांगे पांच हजार रुपये

शहर के उमानगर निवासी रामदुलारे यादव बताते हैं कि मेरे मोबाइल पर एक माह पहले 9793…… मोबाइल नंबर से कॉल आया। उसने बताया कि मैं लखनऊ से पीएम आवास योजना का अधिकारी बोल रहा हूं। आपका नाम प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की सूची में है। एक घंटे में लाभार्थियों के खाते में आवास की किस्त जानी है। पांच हजार रुपये मेरे बताए बैंक खाते में डाल दीजिए। आपका नाम सूची में शामिल कर दूंगा।

केस दो:

फोन आते ही पहुंच गई डूडा

शहर के रामनाथ देवरिया निवासी ज्ञानमती देवी पत्नी मुकुट के पास कुछ दिनों पहले एक अंजान मोबाइल नंबर से फोन आया। उसने कहा कि मैं लखनऊ से प्रधानमंत्री आवास योजना का अधिकारी बोल रहा हूं। मेरे बताए बैंक खाते में चार हजार रुपये जमा कर दीजिए थोड़ी देर बाद आपके खाते में आवास की किस्त पहुंच जाएगी। ज्ञानमती फोन आने के तुरंत बाद डूडा आफिस पहुंच गई। पीओ ने किसी के बहकावे में नहीं आने की बात कही।

——–

केस तीन:

कहा, सूची से नाम गायब कर दूंगा

गौरीबाजार नगर पंचायत निवासी गौरीशंकर ने बताया कि मैने पीएम आवास के लिए डूडा में आवेदन दिया है। एक सप्ताह पूर्व मेरे मोबाइल पर अंजान नंबर से फोन आया। उसने कहा कि आप मेरे बताए बैंक खाते में 20 मिनट के भीतर पांच हजार रुपये डाल देंगे तो आवास की पहली किस्त आपके खाते में तुरंत भेज दूंगा। आधा घंटा बीतने पर उसने दोबारा फोन किया और कहा कि देर किए तो तुम्हारा नाम सूची से गायब कर दूंगा, फिर तुम्हें कभी आवास का लाभ नहीं मिलेगा। बगल के व्यक्ति ने मुझे सतर्क रहने की सलाह दी।

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी पूरी तरह नि:शुल्क है। इसमें लाभार्थी से कहीं भी किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाना है। कई लाभार्थियों ने जालसाजों के फोन कॉल की जानकारी दी है। सभी को जालसाजों से सावधान रहने को कहा जा रहा है।

– विनोद कुमार मिश्र, परियोजना अधिकारी, डूडा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *